पीएम मित्र योजना – (4,445 करोड़) PM MITRA Scheme in hindi | पीएम मित्र योजना क्या है?

पीएम मित्र योजना (PM MITRA Scheme in Hindi), ऑनलाइन फॉर्म, रजिस्ट्रेशन, लाभार्थी, पात्रता, दस्तावेज, आवेदन, अधिकारिक वेबसाइट, हेल्पलाइन नंबर, आवेदन कैसे करें

कपड़ा उद्योग भारत के प्रमुख क्षेत्रों में से एक है। PM Mitra Scheme भारत सरकार समय-समय पर ऐसी योजनाएँ बनाती है जो भारत के सभी प्रमुख उद्योगों की प्रगति की ओर ले जाती हैं। इसी तरह सरकार ने टेक्सटाइल सेक्टर में भी इसी तरह की योजना शुरू की है। हम बात कर रहे हैं पीएम मित्र योजना की, जिसके तहत भारत में सात नए टेक्सटाइल पार्क बनाए जाएंगे। इस लेख के माध्यम से हम आपको प्रधानमंत्री मित्र योजना से संबंधित सभी जानकारी देंगे।

योजना का नामपीएम मित्र योजना
शुरुआत किसके द्वारा किया गयाभारत सरकार
घोषणा की तारीख2022
लाभार्थीदेश के नागरिक
उद्देश्य5 सालों में ₹4,445 करोड़ को बांट कर भारत में 7 टैक्सटाइल पार्क बनाना
बजट₹4,445

पीएम मित्र योजना क्या है?

कपड़ा मंत्रालय ने 4,445 करोड़ के कुल परिव्यय के साथ 7 मेगा एकीकृत कपड़ा क्षेत्र और परिधान (पीएम मित्र योजना) पार्क स्थापित करने के लिए एक अधिसूचना जारी की है। इनका उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्य 9 को प्राप्त करने में भारत की मदद करना है: “लचीले बुनियादी ढांचे का निर्माण, टिकाऊ औद्योगीकरण को बढ़ावा देना और नवाचार को बढ़ावा देना”। उम्मीद है कि पीएम मित्र योजना में विश्व स्तरीय औद्योगिक बुनियादी ढांचा होगा जो अत्याधुनिक तकनीक को आकर्षित करेगा और कपड़ा क्षेत्र में एफडीआई और स्थानीय निवेश को बढ़ावा देगा।

पीएम मित्र योजना का पूरा नाम प्रधानमंत्री मेगा टेक्सटाइल इंटीग्रेटेड टेक्सटाइल एंड अपैरल स्कीम है। यह भारत सरकार द्वारा विकसित एक ऐसी योजना है, जिसके तहत भारत में 7 टेक्सटाइल पार्क स्थापित किए जाएंगे। इससे भारत का कपड़ा उद्योग बेहतर होगा और बड़े पैमाने पर विकास होगा।

इसे भी पढ़ें – अटल पेंशन योजना।

प्रधानमंत्री मित्र योजना का उद्देश्य

पीएम मित्र योजना का लक्ष्य भारत में 4,445 करोड़ रुपये आवंटित करना और भारत में 7 टेक्सटाइल पार्क बनाना है। इस योजना का उद्देश्य भारत के कपड़ा और विनिर्माण उद्योग को आगे बढ़ाना है। यह भारत के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है।

  • कपास की खेती गुजरात और महाराष्ट्र में होती है
  • तमिलनाडु में घूम रहा है
  • राजस्थान और गुजरात में प्रसंस्करण
  • राजधानी क्षेत्र बैंगलोर कोलकाता आदि में गारमेंटिंग।
  • मुंबई और कांडला से निर्यात

तमिलनाडु, पंजाब, ओडिशा, आंध्र प्रदेश, गुजरात, राजस्थान, असम, कर्नाटक, मध्य प्रदेश और तेलंगाना जैसे कई राज्यों ने रुचि दिखाई है।

पीएम मित्र योजना की विशेषताएं

पीएम मित्रा योजना माननीय प्रधान मंत्री के 5F विजन से प्रेरित है – फार्म टू फाइबर टू फैक्ट्री टू फैशन टू फैशन टू फॉरेन। यह एक आत्मनिर्भर भारत के निर्माण की दृष्टि को पूरा करने और भारत को वैश्विक वस्त्र मानचित्र पर मजबूती से स्थापित करने की आकांक्षा रखता है।

  • पीएम मित्रा पार्क 1 स्थान पर कताई, बुनाई, प्रसंस्करण/रंगाई और छपाई से लेकर परिधान निर्माण तक एक एकीकृत कपड़ा मूल्य श्रृंखला बनाने का अवसर प्रदान करेगा।
  • एक स्थान पर एकीकृत कपड़ा मूल्य श्रृंखला उद्योग की रसद लागत को कम करेगी
  • प्रति पार्क ~ 1 लाख प्रत्यक्ष और 2 लाख अप्रत्यक्ष रोजगार उत्पन्न करने का इरादा है
  • पीएम मित्रा पार्कों के लिए स्थलों का चयन ऑब्जेक्टिव मानदंड के आधार पर एक चुनौती पद्धति द्वारा किया जाएगा
  • अन्य कपड़ा संबंधित सुविधाओं और पारिस्थितिकी तंत्र के साथ-साथ 1,000+ एकड़ के सन्निहित और बाधा-मुक्त भूमि पार्सल की तैयार उपलब्धता वाले राज्य सरकारों के प्रस्तावों का स्वागत है
  • पीएम मित्र योजना का पूरा नाम प्रधानमंत्री मेगा टेक्सटाइल इंटीग्रेटेड टेक्सटाइल एंड अपैरल स्कीम है।
  • इस योजना के तहत भारत में सात टेक्सटाइल पार्क स्थापित किए जाएंगे।
  • इस योजना के लिए 4445 करोड़ रुपये आवंटित किए जाएंगे।
  • यह योजना भारत सरकार के 5एफ विजन से प्रेरणा ले रही है।
  • इस परियोजना के लिए डिज़ाइन किए गए 5F विज़न में फ़ैक्टरी से फ़ैशन, खेत से फ़ाइबर से लेकर विदेशी जैसे लक्ष्य शामिल हैं।
  • पीएम मित्र योजना से कपड़ा क्षेत्र में भी रोजगार में सुधार होगा। अनुमान है कि इस योजना से कपड़ा क्षेत्र में 21 लाख रोजगार सृजित हो सकते हैं।
  • सरकार के अनुसार, भारत के विभिन्न राज्यों में ब्राउनफील्ड और ग्रीनफील्ड साइटों पर टेक्सटाइल पार्क स्कोर बनाए जाएंगे।
  • योजना के तहत ग्रीनफील्ड स्थलों पर बनने वाले मित्र पार्क के लिए 500 करोड़ रुपये प्रदान किए जाएंगे। वहीं ब्राउनफील्ड में बनने वाले मित्र पार्क को 20 करोड़ रुपए मिलेंगे।
  • भारत की मैन्युफैक्चरिंग यूनिट स्कोर प्रतियोगिता के लिए सभी फ्रेंडली पार्कों को प्रोत्साहित करने के लिए ₹300 दिए जाएंगे।
  • इस योजना के तहत मित्रा के लिए साझेदारी को स्पेशल पर्पज व्हीकल पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मोड में विकसित किया जाएगा।
  • स्पेशल पर्पज व्हीकल पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप की जिम्मेदारी राज्य और केंद्र सरकार दोनों की होगी।
  • इस योजना के तहत भारतीय कंपनियों को वैश्विक स्तर पर पूरा करने के लिए प्रेरित किया जाएगा।

पीएम मित्र योजना के लाभ

  • पीएम मित्र योजना की शुरुआत 6 अक्टूबर 2021 को की गई है।
  • इस योजना को प्रधानमंत्री मेगा टेक्सटाइल इंटीग्रेटेड टेक्सटाइल एंड अपैरल स्कीम के नाम से भी जाना जाता है।
  • इस योजना के तहत देश भर में 7 इंटीग्रेटेड टेक्सटाइल पार्क बनाए जाएंगे।
  • यह योजना कपड़ा निर्माण क्षेत्र में क्रांति लाएगी।
  • इस योजना के प्रबंधन के लिए सरकार द्वारा 4445 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे।
  • यह योजना प्रधानमंत्री के 5F मॉडल से प्रेरित है जो फार्म टू फाइबर टू फैक्ट्री टू फैशन टू फैशन टू फॉरेन है।
  • पीएम मित्र योजना के जरिए टेक्सटाइल पार्क में वर्ल्ड क्लास इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया जाएगा।
  • इस योजना से 21 लाख रोजगार सृजित होंगे।
  • 21 लाख नौकरियों में से 7 लाख प्रत्यक्ष और 14 लाख अप्रत्यक्ष नौकरियां होंगी।
  • यह योजना भारतीय कंपनी को वैश्विक कंपनी के रूप में उभरने में भी कारगर साबित होगी।
  • इसके अलावा इस योजना के जरिए निवेश को भी आकर्षित किया जा सकता है।
  • इस योजना के माध्यम से कताई, बुनाई, प्रसंस्करण, रंगाई और छपाई से लेकर कपड़ों के निर्माण तक सब कुछ एक ही स्थान पर किया जाएगा।
  • इस योजना के जरिए लॉजिस्टिक्स की लागत भी कम आएगी क्योंकि पूरी वैल्यू चेन एक जगह मौजूद होगी।

पीएम मित्र योजना के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया

अगर आप पीएम मित्र योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको कुछ समय इंतजार करना होगा। सरकार ने अभी इस योजना को शुरू करने की घोषणा की है। इस योजना के तहत आवेदन के संबंध में जानकारी सरकार द्वारा जल्द ही प्रदान की जाएगी। जैसे ही सरकार इस योजना के तहत आवेदन के संबंध में कोई जानकारी साझा करेगी हम आपको इस लेख के माध्यम से जरूर बताएंगे। अतः आपसे अनुरोध है कि हमारे इस लेख के साथ जुड़े रहें।

इसे भी पढ़ें – एसबीआई से पर्सनल लोन कैसे ले।

पीएम मित्र योजना पात्रता मानदंड (योग्यता मानदंड)

पीएम मित्र योजना के तहत कपड़ा क्षेत्र से जुड़ी भारतीय कंपनियों और कामगारों को फायदा होगा। उनकी हालत में सुधार लाने के लिए सरकार यह योजना लेकर आई है, ताकि उन्हें विश्व स्तर पर पहचाना जा सके और मुश्किल चुनौती का सामना न करना पड़े।

Annexure-1

#मापदंडमांगटिप्पणियां
भूमिमिला हुआभार मुक्तइको-सेंसिटिव जोन की तुलना में पार्क साइट का स्थानसाइट लेआउट योजनाभूमि निकासी (भूमि उपयोग)उपयोग की सरलता1000+ एकड़राज्य एक उपक्रम प्रस्तुत करने के लिए किके लिए प्रस्तावित भूमि चिन्हित की गई हैमित्रा पार्क की स्थापना औरवही किसी अन्य के लिए आवंटित नहीं किया गया हैउद्देश्‍य।

चयन मानदंड

क्रमांकचैलेंज मेट्रिक्सवेटेज (%)
01साइट से कनेक्टिविटीस्थल से निकटतम राजमार्ग – स्थल से कि.मी.एयर कार्गो/हवाई अड्डे/रेलहेड से दूरी – साइट से किलोमीटरसमुद्री बंदरगाह/अंतर्देशीय जलमार्ग/डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर से दूरी।मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक पार्क/आईसीडी/सीएफएस से दूरी।25
02कपड़ा के लिए मौजूदा पारिस्थितिकी तंत्रमौजूदा टेक्सटाइल क्लस्टर से दूरी।कपड़ा उद्योग के लिए उपयुक्त कच्चे माल और कुशल जनशक्ति की उपलब्धताकौशल विकास संस्थानों/अनुसंधान संघों/संस्थानों की उपलब्धता।25
03साइट पर उपयोगिता सेवाओं की उपलब्धतापीएम मित्र योजना के विकास और संचालन के लिए साइट पर अच्छी गुणवत्ता वाले बिजली स्रोत की उपलब्धता का आश्वासनबिजली के ओपन एक्सेस सोर्सिंग की अनुमति के साथ पीएम मित्र योजना क्षेत्र के लिए मास्टर डेवलपर के लिए बिजली वितरण लाइसेंस का आश्वासन।समर्पित जल स्रोत और पीएम मित्रा योजना के लिए ताजे पानी की सुनिश्चित उपलब्धता।क्षेत्र में नगरपालिका और ठोस अपशिष्ट प्रबंधन प्रणालीऔद्योगिक अपशिष्ट पुनर्चक्रण सुविधा से दूरीबिजली और पानी की दीर्घकालिक लागत20
04राज्य औद्योगिक/कपड़ा नीतिकपड़ा इकाइयों की स्थापना को प्रोत्साहित करने के लिए औद्योगिक नीति/वस्त्र नीतिउपलब्ध प्रोत्साहन का विवरणनिवेश/एफडीआई के त्वरित कार्यान्वयन की सुविधा के लिए सिंगल विंडो क्लीयरेंस- पीएम मित्रा योजना के लिए प्रस्तावित सिंगल विंडो अनुमोदन तंत्र का विवरणपिछले 5 वर्षों में राज्य की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस (ईओडीबी) रैंकिंगराज्य में पिछले 5 वर्षों के निवेश की प्रवृत्ति का विश्लेषण।नई श्रम संहिताओं को अपनाने की स्थिति और नए श्रम संहिता में कपड़ा उद्योग के लिए दी जा रही छूट की मात्रा।20
05पर्यावरण और सामाजिक प्रभावराज्य सरकार से अंडरटेकिंग कि साइट किसी भी पर्यावरण संवेदनशील क्षेत्र से प्रभावित नहीं है और शीघ्र वैधानिक मंजूरी के लिए समर्थन10

Annexure-2

ग्रीनफील्ड परियोजनाओं के लिए चरण-1

क्रमांककिस्त की संख्यारिहाई के लिए पूर्व शर्तसहायता में एमओटी अनुदानएस्क्रो -1मास्टर डेवलपर द्वारा फंड मोबिलाइजेशनएस्क्रो-2
11st(a) मास्टर डेवलपर का चयन
(b) योजना और विकास कार्य की शुरुआत
(c) भूमि निकासी
(d) बिजली और पानी
(e) पर्यावरण मंजूरी
(f) एमडी द्वारा ₹ 50 करोड़ जुटाना
(g) सीआई/एसआई के लिए ₹ 25 करोड़ का यूसी
₹ 50 करोड़₹ 50 करोड़
22nd(a) कुल जुटाए गए फंड का 75% यूसी (यानी ₹50 + ₹50)
(b) साइट पर भौतिक प्रगति के अनुरूप
(c) बिजली, जल प्रणाली की स्थापना
(d) प्लग एंड प्ले सुविधा के पहले ब्लॉक को पूरा करना
(e) स्वतंत्र कारखाना स्थलों पर ₹ 100 करोड़ के नियोजित निवेश के साथ न्यूनतम 2 कपड़ा निर्माण इकाइयों के लिए निर्माण की शुरुआत
₹ 100 करोड़₹ 100 करोड़
33rd(a) ₹ 300 करोड़ का 75% यूसी (भारत सरकार + एसपीवी इक्विटी)
(b) प्लग एंड प्ले सुविधा में निर्माण इकाइयों की स्थापना का 50%।(c) अनुमोदन के बाद उपयुक्त भौतिक मील के पत्थर की पहचान की जाएगी।
₹ 100 करोड़₹ 100 करोड़
44th(a) ₹500 करोड़ का 75% यूसी (भारत सरकार + एसपीवी इक्विटी)
(b) प्लग एंड प्ले सुविधा के दूसरे ब्लॉक का समापन
(c) कम से कम ₹ 100 करोड़ की निवेश योजना के साथ कम से कम 5 स्वतंत्र फ़ैक्टरी साइटों पर निर्माण शुरू करना।
(d) परियोजना और रियायत समझौते के अनुमोदन के बाद अन्य उपयुक्त भौतिक मील के पत्थर की पहचान की जाएगी।
₹ 50 करोड़₹ 50 करोड़
कुल₹ 300 करोड़₹ 300 करोड़

उद्योग/प्रसंस्करण क्षेत्र में नियोजित विकास के न्यूनतम 60% के निर्माण द्वारा भूमि अधिग्रहण के बाद चरण-द्वितीय विकास शुरू हो जाएगा और साथ ही साथ निम्नलिखित शर्तों में से एक को पूरा किया जाएगा:

1. पीएम मित्र योजना में ₹ 1000 करोड़ का संचयी निवेश;

2. पीएम मित्र योजना में सृजित 25000 लोगों का संचयी वार्षिक रोजगार;

चरण 2 के तहत निधियों का वितरण निम्नलिखित तरीके से किया जाएगा:-

ग्रीनफील्ड परियोजनाओं के लिए चरण-2

क्रमांककिस्त की संख्यारिहाई के लिए पूर्व शर्तसहायता में एमओटी अनुदानएस्क्रो -1मास्टर डेवलपर द्वारा फंड मोबिलाइजेशनएस्क्रो-2
11st(a) ₹ 600 करोड़ का 90% यूसी (भारत सरकार + चरण 1 में जुटाई गई एसपीवी निधि)
(b) विनिर्माण इकाइयों द्वारा प्लग एंड प्ले के न्यूनतम 2 ब्लॉकों की कमीशनिंग और संचालन।
(c) न्यूनतम ₹ 100 करोड़ के निवेश के साथ न्यूनतम 10 स्वतंत्र विनिर्माण सुविधा का संचालन
(d) अनुमोदन के बाद अन्य उपयुक्त भौतिक मील के पत्थर की पहचान की जाएगी।
₹ 50 करोड़₹ 50 करोड़
22nd(a) ₹ 700 करोड़ का 90% यूसी (जीओआई + एसपीवी इक्विटी)
(b) अनुमोदन के बाद अन्य उपयुक्त भौतिक मील के पत्थर की पहचान की जाएगी।
₹ 50 करोड़₹ 50 करोड़
33rd(a) ₹ 800 करोड़ का 90% यूसी (जीओआई + एसपीवी इक्विटी)
(b) अनुमोदन के बाद अन्य उपयुक्त भौतिक मील के पत्थर की पहचान की जाएगी।
₹ 50 करोड़₹ 50 करोड़
44th(a) ₹ 900 करोड़ का 100% यूसी (जीओआई + एसपीवी इक्विटी)
(b) प्लग एंड प्ले सुविधा में निर्माण इकाइयों की 100% कमीशनिंग।
₹ 50 करोड़₹ 50 करोड़
कुल₹ 200 करोड़₹ 200 करोड़

3 साल में प्रदान की जाएगी 30 करोड़ रुपए की मदद

ये पार्क उन सभी राज्यों में बनाए जाएंगे जहां सस्ती जमीन, पानी और लेबर मुहैया कराई जाएगी। 7 पार्कों के निर्माण की अनुमानित लागत 17,000 करोड़ रुपये है। जो इकाइयां आती हैं और शुरू में भारी निवेश करती हैं उन्हें भी पहले आओ पहले पाओ के आधार पर सहायता प्रदान की जाएगी। एक इकाई को सरकार द्वारा 3 साल में 30 करोड़ रुपए तक की सहायता दी जाएगी। इस टेक्सटाइल पार्क में अनुसंधान केंद्र, डिजाइन केंद्र, प्रशिक्षण केंद्र, चिकित्सा सुविधाएं, श्रमिकों के लिए आवास सुविधाएं, गोदाम, परिवहन सुविधाएं, होटल, दुकानें भी स्थापित की जाएंगी। पार्क एक पूरी तरह से एकीकृत प्रणाली होगी जो एक पारिस्थितिकी तंत्र तैयार करेगी जहां हर कोई एक दूसरे को लाभान्वित और मदद कर सके। पार्क का 50% क्षेत्र शुद्ध विनिर्माण गतिविधियों के लिए, 20% क्षेत्र उपयोगिताओं के लिए और 10% क्षेत्र व्यावसायिक विकास के लिए विकसित किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें – बैंक ऑफ बड़ौदा से पर्सनल लोन कैसे लें।

पीएम मित्र योजना के तहत आवेदन प्रक्रिया

देश के जो इच्छुक लाभार्थी इस योजना के तहत आवेदन करना चाहते हैं, उन्हें अभी कुछ समय इंतजार करना होगा। जैसा कि सरकार द्वारा हाल ही में योजना शुरू की गई है, इस योजना के तहत आवेदन प्रक्रिया अभी तक शुरू नहीं हुई है। जिस प्रकार मित्र योजना के तहत आवेदन करने की प्रक्रिया सरकार द्वारा शुरू की जाएगी, उसी तरह हम इस लेख के माध्यम से आवेदन प्रक्रिया से संबंधित पूरी जानकारी को स्पष्ट कर देंगे। अगर इस बीच आपको इस योजना को लेकर कोई समस्या आती है, अगर आपके मन में कोई सवाल आता है, तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमसे पूछ सकते हैं।

पीएम मित्र योजना ऑफिशल वेबसाइट

वेबसाइट पीएम मित्र योजना कपड़ा मंत्रालय के अंतर्गत आती है, इसलिए इस योजना के बारे में जानकारी के लिए हम कपड़ा मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं। सरकार चल रही गतिविधियों के बारे में जानकारी प्रदान करती है। 

यदि आपको अभी इस बारे में कोई संदेह है, या आप इसे थोड़ा सुधारना चाहते हैं, तो आप नीचे टिप्पणी में लिख सकते हैं। आपके सुझाव से हमें कुछ और सीखने और कुछ सुधारने का अवसर मिलेगा। अगर आपको हमारी पोस्ट ” पीएम मित्र योजना ” पसंद आया आपने इससे कुछ सीखा है, तो अपनी प्रसनता और उत्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Media जैसे की Facebook, Twitter, Instagram और Whatsapp पर Share जरूर कीजिए।  धन्यवाद।

संबंधित सवाल:

योजना का क्या लाभ है?

योजना देश के 21 लाख से अधिक नागरिकों को रोजगार प्राप्त हो सकेगा और वह स्वयं से आत्म निर्भर और सशक्त बन पायेगा।

पीएम मित्र योजना का लाभ किसे मिलेगा?

पीएम मित्र योजना भारत के टेक्सटाइल क्षेत्र के लिए है।

पीएम मित्र योजना को कौन लेकर आया?

भारत सरकार।

देश में कितने टेक्सटाइल पार्क का निर्माण किया जायेगा?

योजना के तहत 7 टेक्सटाइल पार्क का निर्माण किया जायेगा।

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

पीएम मित्र योजना – (4,445 करोड़) PM Mitra Yojana in hindi अटल पेंशन योजना (APY Chart) | अटल पेंशन योजना क्या है? InCred app से लोन कैसे ले – घर बैठे 7.5 लाख ऑनलाइन लोन ले LazyPay app se loan kaise le – Loan App & Pay Later रिच कैश लोन ऐप से लोन कैसे ले (Rich Cash loan app se loan kaise le)
पीएम मित्र योजना – (4,445 करोड़) PM Mitra Yojana in hindi अटल पेंशन योजना (APY Chart) | अटल पेंशन योजना क्या है? InCred app से लोन कैसे ले – घर बैठे 7.5 लाख ऑनलाइन लोन ले LazyPay app se loan kaise le – Loan App & Pay Later रिच कैश लोन ऐप से लोन कैसे ले (Rich Cash loan app se loan kaise le)